Home Blog

रमजान के मौके पर 700 रोजेदारों के लिए मंदिर के अंदर इफ्तार पार्टी देगा ये मंदिर

0

भारत में फैलती नफ़रत और कट्टरवाद के बीच एक हिन्दू मुस्लिम की एकता की एक मिशाल पेश करने वाली खबर आई है. रमजान का मौहाल है मुस्लिम समुदाय के लोग रोज़े पर है. रमजान के मौके को देखते हुए केरल के एक मंदिर ने विशेष इफ्तार का आयोजन किया. इसमें सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया.

रमजान के इस मौके पर दक्षिण भारत के एक मंदिर में राजेदारों के लिए इफ्तार का आयोजन किया गया था. केरल के मल्‍लापुरम जिले के एक विष्‍णु मंदिर रमज़ान के दौरान मुस्लिमों के लिए मंदिर के अंदर इफ्तार पार्टी का आयोजन किया गया.

दो समुदायों के बीच सद्भावना बढ़ाने के लिए पुन्‍नाथला के लक्ष्‍मी नारायण मूर्ति मंदिर ने इफ्तार पार्टी देने का फैसला किया है. इफ्तार पार्टी के लिए मंदिर में वेज खाना तैयार किया गया था. मंदिर के अंदर नॉनवेज ले जाने की अनुमति नही है.

मंदिर ने रोजेदारों के लिए वेज बिरयानी, नाश्ता, फल, जूस और स्पेशल पेय पदार्थों का इंतजाम किया गया था. मंदिर के इस आयोजन में करीब 700 रोजेदारों ने हिस्सा लिया था. यह मंदिर के प्रतिष्‍ठा दिनम त्‍योहार का हिस्‍सा है. त्‍योहार के दूसरे दिन इफ्तार का आयोजन किया गया था.

मंदिर कमेटी के मोहन नायर ने टाइम्‍स ऑफ इंडिया को बताया कि मुस्लिम बहुल इलाकों के गांवों में रहने वाले स्‍थानीय लोगों की मदद से इस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है जिसमें जाति, धर्म और राजनीति का भेद नहीं है. कमेटी ने कार्यक्रम में सभी को बुलाया है और कमेटी को करीब 700 लोगों के आने की उम्‍मीद है.

इससे पहले पिछले साल भी इसी तरह का आयोजन किया था जिसमें करीब 500 लोगों ने हिस्सा लिया था. इसके बाद मंदिर ने यह आयोजन हर साल करने की योजना बनाई थी.

अपनी बहादुरी से मुस्लिम युवक को भीड़ से बचाने वाले गगनदीप सिंह को मिल रहे नफरत भरे संदेश

0

उत्तराखण्ड के नैनीताल में कुछ हिन्दूवादी लोगों से एक मुस्लिम युवक को अपनी बहादुरी से बचाने के बाद पुरे देश में इन बहादुर सिख पुलिसकर्मी की चर्चाएँ चल रही है. हाल ही में वायरल हुए एक वीडियो के बाद यह मामला सामने आया था.

इस वीडियो में सिख पुलिस कर्मी गगनदीप सिंह है. यहाँ उनकी बहादुरी की चर्चा है वहीँ कुछ लोग उन्हें निशाना भी बना रहे हैं. इस मामले में सब-इंस्पेक्टर गगनदीप सिंह ने कहा है कि संभावित लंचिंग से मुस्लिम युवा को बचाने के बाद मुझे समर्थन के साथ और नफरत भरे संदेश भी मिल रहे हैं. साथ ही गगनदीप ने कहा कि मैं केवल अपना कर्तव्य निभा रहा था.

आपको बता दें कि इस पुरे मामले का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस वीडियो में देखा जा सकता है कि हिंदुत्व के फ़र्ज़ी ठेकेदार एक मुस्लिम युवक की जान लेने पर उतारू है. और इसका कारण यह था कि वह मुस्लिम लड़का अपनी एक हिन्दू लड़की दोस्त के साथ गर्जिया मंदिर आया था. जब लोगों ने उन से पूछताछ की तब लड़के के मुस्लिम होने का खुलसा हुआ.

इसके बाद वहां मौजूद लोगों ने उस लड़के को घेर लेते है, भीड़ उस लड़के के साथ मारपीट करना चाहती थी. तभी एक फ़रिश्ते की तरह गगनदीप बीच में आ जाते है. इस बीच भीड़ बहुत कोशिश करती है लेकिन सिंह उस लड़के को अपने सीने से लगा कर रखते है.

गगनदीप भीड़ को समझने की कोशिश करते है. वह उस भीड़ से मुस्लिम युवक को सुरक्षित निकलने की कोशिश करते है. इस बीच काफी हंगमा होता है.

राजगढ़ में कथित लव जिहाद रोकने संगठन के कार्यकर्ता ले रहे हैं हथियार चलाने की ट्रेनिंग

0

भाजपा शासित मध्‍य प्रदेश में साल के अंत में चुनाव होने है. ऐसे में हिंदूवादी संगठनों ने धुर्विकरण के लिए अपने सांप्रदायिक पैतरों को आजमाना शुरू कर दिया है. इस की शुरूआत राजगढ़ से हो गई है. राजगढ़ में लव जिहाद के नाम पर विशेष समुदाय के खिलाफ हथियार चलाने की ट्रेनिंग दी जा रही है.

समाचार एजेंसी ‘एएनआई’ के अनुसार, बजरंग दल द्वारा राजगढ़ में हथियार प्रशिक्षण शिविर लगाया गया. जिसमे सरेआम एक समुदाय विशेष के खिलाफ ये ट्रेनिंग दी जा रही. जिस पर प्रशासन ने भी चुप्पी साध रखी है.

इस मामले में राजगढ़ की पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद ने रविवार को एक चर्चा के दौरान कहा, “उन्हें जानकारी मिली है कि आत्म रक्षार्थ बजरंग दल द्वारा कोई प्रशिक्षण दिया जा रहा है, इसमें अगर लाइसेंसी हथियार हैं तो उसमें कानून का कोई उल्लंघन नहीं लगता. उनसे इस तरह के शिविर को लेकर कोई अनुमति नहीं ली गई है. वास्तविक स्थिति का पता कराया जा रहा हैं.

हिंदूवादी संगठन के जिला संयोजक देवी सिंह सोंढिया ने शिविर आयोजित करने के उद्देश्‍यों के बारे में जानकारी दी. उन्‍होंने कहा, ‘यह एक नियमित प्रशिक्षण शिविर है. हमलोग राष्‍ट्रविरोधी ताकतों और लव जिहाद करने वाले तत्‍वों से निपटने के लिए हर साल इस तरह का शिविर लगाते हैं.

बता दें कि यह कोई पहला मामला नहीं है जब बजरंग दल अपने कार्यकर्ताओं को हिंदुओं की रक्षा के नाम पर हथियार चलाने की ट्रेनिंग दे रहा हो. 2016 में भी बजरंग दल ने अयोध्या में एक ट्रेनिंग कैंप का आयोजन किया था, जिसमें कार्यकर्ताओं को राइफल, तलवार और लाठियां चलाने की ट्रेनिंग दी गई थी.